भारतेंदु हरिश्चंद्र पर आधरित बहुत ही महत्वपूर्ण प्रश्न (very important question based on Bhartendu Harishchandra)

Time :- 9 months ago

Download PDFS free all exams current affairs gk reasoninga

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Share on pinterest
Share on telegram
very important question based on Bhartendu Harishchandra

1. पण्डित शीलदावानल के प्रमुख शिष्यों के नाम लिखिए।
⇒ वेणु, बाणासुर, रावण, दुर्योधन, शिशुपाल, कंस आदि पण्डित शीलदावानल के प्रमुख शिष्य थे।

2. हिन्दी साहित्य के पितामह कहे जाते हैं –
⇒ भारतेन्दु हरिश्चन्द्र

3. भारतेन्दु द्वारा रचित निबंध ’एक अद्भूत अपूर्व स्वप्न’ साहित्य की किस शैली को ध्वनित करता हैं ?
⇒ व्यंग्य

4. अपनी कीर्ति स्थापित करने हेतु लेखक के मन में सर्वप्रथम किस चीज के निर्माण का विचार आया ?
⇒ देवालय

5. पुस्तक रचने में लेखक को क्या बाधा उपस्थित हुई ?
⇒ आलोचकों का भय

6. स्वप्न ही में प्रभात होते ही लेखक ने किस चीज को बनाने का विचार दृढ़ किया ?
⇒ पाठशाला

7. लेखक ने पाठशाला निर्माण में हुए व्यय के विषय में मुंशी से कितनी संख्या सुनी ?
⇒ एक अंक और तीन सौ सत्तासी शून्य

8. किस विद्वान को इन्द्र अपनी पाठशाला हेतु समुद्र और वन, जंगलों में खोजता फिरा ?
⇒ महामुनि मुग्धमणि शास्त्री

9. लुप्तलोचन ज्योतिषाभरण ने किस पुस्तक की रचना की थी ?
⇒ लुप्तलोचन ज्योतिषाभरण ने ‘तामिश्र-मकरालय’ पुस्तक की रचना की थी।

10. पाठशाला बनाने में पहले क्या बाधा आई ?
⇒ पाठशाला बनाने के लिए लेखक के पास पर्याप्त धन नहीं था।

11. ‘एक अद्भुत अपूर्व स्वप्न’ में संसार की क्या विशेषता बताई गई है ?
⇒ ‘एक अद्भुत अपूर्ण स्वप्न’ में संसार को नाशवान बताया गया है।

12. ‘एक अद्भुत अपूर्व स्वप्न’ की रचना लेखक ने किस शैली में की है ?
⇒ हास्य-व्यंग्यात्मक शैली

13. भारतेन्दु जी को हिन्दी गद्य का जनक क्यों कहा जाता है ?
⇒ हिन्दी गद्य का प्रवर्तन और साहित्यिक रूप प्रदान करे पर।

14. ‘एक अद्भुत अपूर्ण स्वप्न’ के वर्णन का विषय क्या है ?
⇒ तत्कालीन भारतीय समाज, लोगों के द्वारा अपना नाम स्थायी बनाने के लिए लालायित रहने और यशस्वी बनने।

15. लेखक ने अपना नाम संसार में स्थिर रखने के लिए क्या सोचा ?
⇒ लेखक ने पहले देवालय, फिर पुस्तक लिखने और अंत में पाठशाला बनाने का सोचा

16. ‘प्रथम तो हम किसी अध्यापक को मासिक देंगे ही नही………’ से पता चलता है कि-
⇒ उस समय अध्यापकों का शोषण होता था।

17. लुप्तलोचन ज्योतिषाभरण द्वारा लिखी हुई पुस्तक है-
⇒ तामिस्र मकरालय

18. देवराज इन्द्र ने अपनी पाठशाला द्वारा लिखी हुई पुस्तक है-
⇒ वृहस्पति को

19. मृत्यु के पश्चात अपना नाम स्थायी रखने के लिए लेखक ने-
⇒ पाठशाला बनवाई

20. ‘तप्त तवे की बूँद’ का तात्पर्य है-
⇒ क्षणभंगुर

21. ‘एक अद्भुत अपूर्ण स्वप्न’ में शरीर को बताया गया है-
⇒ चलायमान

22. ज्योतिष विद्या में कुशल पण्डित का क्या नाम था ?
⇒ लुप्तलोचन ज्योतिषाभरण

23. उद्दण्ड पण्डित कहाँ से बुलवाये गये थे ?
⇒ उद्दण्ड पण्डित हिमालय की कंदराओं से खोजकर बुलवाये गये थे।

24. लेखक के मन में प्रथम क्या विचार आया ?
⇒ विचार आया कि संसार नाशवान है। इसमें अपने नाम को स्थायी और स्मरणीय बनाने के लिए कोई उपाय करना चाहिए।

25. ‘पर्यंक’ का शब्दार्थ है-
⇒ पलंग

26. भारतेन्दु हरिश्चन्द्र का जन्म स्थान है-
⇒ काशी।

यह भी पढ़ें ↓

Latest Post